सोमवार, 3 अप्रैल 2017

अनोखा जन्मदिन- बाल कहानी


परसों मिंकु बंदर का जन्मदिन है। मिंकु ने क ई महीने पूर्व ही तैयारी करने लग गया था। मिंकु बंदर अपना जन्मदिन इस तरह से मनाना चाहता था कि अभी जंगलवासी याद रखें। मिंकु अपने जन्मदिन की तैयारी गुपचुप तरीके से कर रहा था जिससे की किसी को पता न चले।
           आज मिंकु का अपने दोस्तों को निमंत्रण पत्र बाँट रहा था।
"मिंकु, परसों तो तुम्हारा जन्मदिन है",- चिंटू कोयल ने कहा-" और तुमने अभी तक कोई तैयारी नहीं की?"
"तैयारी तो मैंने कर रखी है", -मिंकु बंदर ने मुस्कुराते हुए कहा- " इस बार तो मेरा जन्मदिन सबसे अनोखा होगा।"
जंबु जिराफ ने कहा- "तो हमें उपहार भी अनोखे लाने होंगे?"
"नहीं", - मिंकु ने उत्तर दिया,-" इस बार तुम कोई उपहार नहीं लाओगे। इस बार तो मैं आपको उपहार दूँगा।"
"क्या?"- सभी ने आश्चर्य से कहा।
" तब तो वास्तव में तुम्हारा जन्मदिन अनोखा है।"- चिंटु कोयल ने कहा।
               मिंकु तो निमंत्रण पत्र बाँट कर चला गया। पर सभी दोस्त मिंकु के अनोखे जन्मदिन का बेसब्री से इंतजार करने लगे।
              आज मिंकु बंदर का जन्मदिन है। सभी दोस्त मिंकु के कहे अनुसार कोई उपहार लेकर नहीं आये।
  मिंकु के घर पर कोई तैयारी नहीं दिखाई दे रही थी। सभी दोस्त आश्चर्यचकित थे कि बिना तैयारी एवं सजावट के मिंकु किस तरह का जन्मदिन मना रहा है।
        "मिंकु तुम तो कह रहे थे कि तुम्हारा जन्मदिन सबसे अनोखा होगा, पर यहाँ तो कुछ भी तैयारी नहीं दिखाई दे रही।"- सभी दोस्तों ने पूछा।
     पिलु कुत्ते ने पूछा- " मिंकु जल्दी बताओ तुम किस तरह का अनोखा जन्मदिन मना रहे हो?"
     मिंकु ने मुस्कुराते हुए कहा- "दोस्तों, आज मेरा जन्मदिन है। मैं आज आपसे कोई उपहार नहीं ले रहा, बल्कि आप सभी को एक अनोखा उपहार दे रहा हूँ। क्या आप मेरे दिये गये उपहार को सुरक्षित रखोगे?"
  "हाँ!"- सभी दोस्तों ने एक साथ कहा-
  " तो आओ मेरे साथ"- मिंकु ने कहा - "जहाँ अनोखे उपहार आप सभी का इंतजार कर रहे हैं।"
      सभी दोस्त मिंकु के घर के पीछे बनी बगिया में पहुँचे। बगिया में बहुत से रंग-बिरंगे फूल खिले थे। क ई क्यारियों में आम, जामुन, बरगद, सेमल, नीम आदि के पौधे लगे थे।
"यहाँ पर कौनसे अनोखे उपहार हैं?"- अभी दोस्तों ने इधर-उधर देखते हुए कहा।
" इन क्यारियों में लगे पौधे ही अनोखे उपहार हैं।"
"वो कैसे?"- सभी दोस्तों ने एक साथ पूछा।
मिंकु ने उत्तर दिया- " दोस्तों, हमारे जंगल से दिन प्रतिदिन पेङ-पौधे कम होते जा रहें हैं। जिसके कारण बरसात कम होने से पानी की कमी आ रही है। इस जन्मदिन पर मैंने निर्णय लिया है कि हम सभी पौधे लगाकर अपने जंगल को हरा-भरा बनाएँगे।"
  "तुम सही कह रहे हो।"- सभी दोस्तों ने मिंकु की बात का समर्थन किया।
  " इसलिए मैं आप सभी को उपहार में एक-एक पौधा दे रहा हूँ। जिसे आप लगाओगे और उसकी रक्षा भी करोगे।"- मिंकु बंदर ने कहा।
        "वाह! मिंकु।"- जंबु जिराफ ने कहा- " तुम्हारा जन्मदिन तो वास्तव में सबसे अनिखा है।
      टिंकु चिङिया ने कहा- "इस तरह हम जन्मदिन भी मना लेंगे तथा पर्यावरण की सुरक्षा भी कर लेंगे।"
  पिलु कुत्ते ने कहा- "हम सभी भविष्य में अपना जन्मदिन इसी तरह मनाएँगे।"
"तो आओ दोस्तों", -मिंकु बंदर ने कहा- " सभी एक-एक पौधा उठा लो और इसे जंगल में लगाकर आऐं।"
   सभी ने अपनी-अपनी पसंद के पौधे उठा लिए।
"मिंकु, तुम्हें जन्मदिन की बधाई हो।"- सभी ने एक साथ कहा तो मिंकु भी मुस्कुरा उठा।
सभी दोस्त मिंकु के साथ अपना-अपना अनोखा उपहार उठाए चल दिए।
____  
बाल वाटिका
(भीलवाङा, राजस्थान)
दिसंबर- 2010

सोमवार, 13 मार्च 2017

होली- कविता- मंजु

हर वर्ष फागुन में आती होली
हर बार नए रंग लाती होली।
           कभी गुब्बारे कभी गुलाल
           कहीं कोई पिचकारी लाल
          सबको रंग रंग जाती होली।
कभी किसी की चुनरी भीजे
कभी कोई बलमा पर रीझे
सबका मन हर्षाती  होली।
            कोई लेता गुझिये का मज़ा
            किसी पे चढ़ा है भंग का नशा
            क्यूँकि ये है मदमाती होली।
कुछ लोग क्यूँ खेलते खून से होली
नहीं समझते प्यार की बोली
किसी को वैर नहीं सिखाती होली।
          आओ मिलकर प्रण करे
          हर मन में ख़ुशी का रंग भरे
    और खेले प्रेम रंग बरसाती होली।।
   
    -  मंजू इंखिया
              प्राध्यापिका-हिंदी

शुक्रवार, 30 दिसंबर 2016

जंगल में प्रजातंत्र - बाल कहानी

जंपी बंदर बहुत दिनों बाद चंपक वन लौटा था। वह बचपन से ही अपने मामा के पास शहर में रहता था। इस बार वह अपनी पढाई पूरी कर के आया था।
      जंपी को पता चला की जंगल में अब भी शेर सिंह का राज चलता है। यहां कभी चुनाव भी नहीं होते। जंपी को अच्छा नहीं लगा। उस ने फैसला किया की इस बार जंगल में चुनाव करवाए जाए।
  उस ने हाथी दादा से कहा, "दादा, इस बार हम जंगल में चुनाव करवाएंगे।"
"पर बेटा, किस की हिम्मत है जो शेर सिंह के सामने चुनाव लङे। वैसे भी जंगल में कभी चुनाव नहीं हुए।" हाथी दादा ने कहा।
  "पर ऐसा क्यों दादा, अब तो हर जगह प्रजातंत्र का जमाना है। कोई भी चुनाव लङ सकता है।" जंपी ने कहा।
   "तुम्हारी बात सही है, बेटा। पर जंगल के जानवर अनपढ हैं, वे भला प्रजातंत्र के बारे में क्या जानते हैं।"- हाथी दादा बोले।
    "मैं सब जानवरों को समझाऊंगा, दादा।"- जंपी ने कहा।
   "मैं तुम्हारे साथ हूं, बेटा।"- हाथी दादा खुश होकर बोले।
              उस के बाद जंपी रोज चंपक वन में घूमता। वह सब को चुनाव के बारे में समझाता। सभी शेर सिंह के जुल्म से परेशान थे। मगर सिंह के डर के कारण बोल नहीं पाते थे।
जंपी की खबरें राजा शेर सिंह के पास भी पहुंचने लगी। शेर सिंह सभी को अपनी तरफ करने लगा। धीरे-धीरे चुनाव का समय नजदीक आने लगा।
    "हम चुनाव में खङा किसे करेंगे?"- मिकी हिरण ने कहा।
"हमें सभा बुलानी होगी। उसी में हम सब की राय से उम्मीदवार का नाम तय होगा।"- जंपी बंदर ने कहा।
               फिर एक दिन जंगल में सभा हुयी। जंपी बंदर ने एक ऊचें पत्थर पर चढकर जानवरों से कहा, "आप सभी को पता है कि अब सब जगह प्रजातंत्र है, पर हमारे चंपक वन में राजा का राज ही चल रहा है। हमें मिलकर प्रजातंत्र लागू करना है, इसलिए हमें आज अपना उम्मीदवार तय करना है। एक ऐसा उम्मीदवार जो हम सभी की परेशानी समझ सके, जंगल का फायदा करे।"
"पर हम अपना उम्मीदवार किसे चुनें? "- पिंकी कोयल ने पूछा।
सब सोचने लगे की उम्मीदवार किसे बनाया जाये। आखिर में सब की राय से हाथी दादा को चुना गया। लंबू जिराफ ने दादा को माला पहनाई। सभी ने हाथी दादा को जिताने का वादा किया।
      जब यह खबर शेर सिंह के पास पहुंची, तो वह आग-बबूला हो उठा। उस ने सभी को हाथी दादा के खिलाफ भङकाना शुरु कर दिया।
       चुनाव का दिन आ गया। जंगल में पहली बार चुनाव हो रहे थे। सभी खुश थे। एक तरफ हाथी दादा थे दूसरी तरफ शेर सिंह। शेर सिंह ने सभी को अपनी तरफ मिलाने की भरसक कोशिश की।
     शाम को चुनाव खत्म हुआ।
     वोटों की गिनती हुयी।
हाथी दादा भारी मतों से जीते। जंगल में खुशी छा गयी। शेर सिंह जंगल से भाग गया। जंगल में प्रजातंत्र की जीत हुयी।
..............
चंपक, जुलाई(द्वितीय) 2005
(मेरी प्रकाशित प्रथम कहानी)

एक चूहा

रविवार का दिन था। बंटी अपने दोस्तों के साथ पार्क में खेल रहा था। तभी उसे मम्मी की आवाज सुनाई दी,
"बंटी, जल्दी यहां आओ।"
वह भागा अाया।
"क्या है?"- उसने मम्मी से पूछा।
मम्मी बोली, -"इस कमरे में एक मोटा सा चूहा है। उसे भगाओ। नहीं तो वह सारा सामान कुतर कर खराब कर देगा।"
"ठीक है, मम्मी। मैं अभी अपने दोस्तों के साथ चूहे को भगाता हूं"- बंटी ने कहा।
मम्मी दूसरे कमरे में गयी। बंटी ने अपने दोस्तों को बुला लिया।
"क्या काम है?"-आते ही सोनू ने पूछा।
बंटी ने सभी को चूहा पकङने की बात बताई।
"चूहा"- दीपा घबरा गयी, "मुझे तो चूहे से बहुत डर लगता है।"
बंटी ने कहा, "डर कैसा, हम अभी चूहे को यहां से भगा देंते हैं।"
सभी दोस्त चूहे को भगाने को तैयार हो गये। चिंटू और दीपा ने झाङू उठा लिया, बंटी ने बैट, चिकी और सोनू ने डण्डे ले लिए।
सभी कमरे में पहुंचे। उन्होंने अंदर से कमरा बंद कर के बल्ब जला लिया।
"कहां है चूहा?।"- चिकी ने इधर-उधर देखा।
"उन थैलों के नीचे होगा,"-सोनू ने कमरे के कोने में रखे थैलों की तरफ इशारा किया,
"मैं अभी देखता हूं।" सोनू और बंटी ने एक-एक कर थैले नीचे उतारे।
आखिरी थैला हिलाते ही चूहा निकल कर भागा।
"वह रहा।"- चिंटू ने जोर से झाङू चूहे पर दे मारा।
चूहा भाग गया। झाङू सामने पङे फूलदान से टकराया। फूलदान टूट गया, पर फूलदान की किसे परवाह थी। चूहा भाग कर कोने में रखी कुर्सी के नीचे जा दुबका। चूहे को वहां देख बंटी ने अपना बैट घूमा कर मारा। बैट चूहे को लगने की बजाय कुर्सी से टकराया। कुर्सी की टांग टूट गयी। चूहा फिर भागा। वह दूसरे कोने में रखी मेज के नीचे जा दुबका।
     बंटी चिल्लाया, -"इस बार बचना नहीं चाहिए।" चिकी ने जोर से अपना डण्डा घुमाकर मारा। डण्डा मेज से टकराया। मेज पर रखा लैंप नीचे गिर कर टूट गया। चूहा मेज के नीचे से निकल कर भागा। चिंटू और दीपा ने झाङूओं से उस पर हमला जर दिया। पर चूहा सही-सलामत पलंग के नीचे जा छिपा।
"अब क्या करें?"- चिक्की चिल्लाया।
सोनू और चिंटू ने पलंग को कमरे के बीच में कर दिया। पलंग हिला तो चूहा दौङ कर कमरे में रखी बङी मेज की टांग से जा लगा।
   "चारों तरफ खङे हो जाओ।"- दीपा ने कहा।
सोनू का डण्डा चला। चूहे की जगह डंडा मेज से टकराया। चूहा फिर निकल भागा। चूहे के भागते ही सब ने एक साथ उस पर हमला कर दिया। चूहा तो भाग निकला, पर दीपा का झाङू चिंटू के सिर में लगा। वह मेज से टकराया, तो मेज पर रखी घङी नीचे गिर कर टूट गयी। चूहा ऐसा भागा की किसी को दिखाई नहीं दिया।
"चूहा किधर गया?"- चिंटू ने संभलते ही पूछा।
पर चूहा ऐसा गायब हुआ की किसी को दिखाई न दिया। बंटी समेत सभी ने कमरे का सामान उलट-पुलट कर डाला। पूरा कमरा कबाङखाना सा लगने लगा, पर चूहा कहीं न दिखा।
  एकाएक चिकी ने कहा, -"वह रहा चूहा।"
  "कहाँ है?"- सब ने एक साथ पूछा।
"उस बैग में।"- चिकी ने कमरे के दरवाजे के पास पङे बंटी के बस्ते की तरफ इशारा किया।
  वहां चूहे की पूंछ दिखाई दे रही थी।
    "शी....चुप रहो"- बंटी ने कहा, "इसे आराम से पकङेंगे।"
    सभी दोस्त धीरे से बस्ते की तरफ बढे बंटी ने दबे पांव जाकर पीछे से चूहे की पूंछ पकङ ली उस ने चूहे को हवा में लहराया। अचानक चूहा उछला। बंटी के हाथ से निकल कर वह सीधा दीपा के मुँह से जा टकराया।
     "आ......।" चूहे के टकराते ही दीपा चीखी।
चीख सुनकर बंटी की मम्मी भागी आयी।
  "क्या हुआ?"-मम्मी बोली, "जल्दी दरवाजा खोलो।"
बंटी ने दरवाजा खोला। मम्मी अंदर आ गयी। मम्मी ने कमरे की हालत देखी, तो वह खङी रह गयी। पूरे कमरे का सामान बिखरा पङा था।
"यह क्या है?"- मम्मी ने जोर से पूछा।
"वह गया।"- सोनू चूहे को कमरे से बाहर भागते देख कर बोला।
सारे बच्चे एक साथ बाहर चूहे के पीछे भागे। मम्मी कमरे का सामान देखती रह गयी।
  ------------------------
   चंपक, अगस्त(द्वितीय) 2006

मंगलवार, 16 सितंबर 2014

दीवारेँ







निरंतर उठती
बनती, बढती दीवारेँ
देती हैँ सुरक्षा
प्राकृतिक-अप्राकृतिक विपत्ति से
तब अच्छी लगती हैँ दीवारेँ।

धीरे-धीरे ह्रदय मेँ पनपती
ईर्ष्या, द्वेष की दीवारेँ
बाँटती मानवता को
धर्म, जाति और राजनीति की दीवारेँ
यूँ पलती-बढती
अच्छी नहीँ लगती दीवारेँ।

टूटती, फूटती, गिरती
कच्ची-पक्की दीवारेँ।
पर मुश्किल हो जाती है
गिरानी दिलोँ की दीवारेँ।।
 
 -अभिनव प्रयास(अक्टु.-दिस.-2012)अलीगढ, उत्तर प्रदेश से प्रकाशित।

जीवन



जीवन है सुख दुख का दरिया
लहरं जिसमें आती जाती,
नांव  किनारे वही है लगती
जो लहरों से है टकराती।


फूल सा है यह जीवन
खिलता और मुरझाता,
सार्थक करता वही जीवन को
जो सुकर्म सुगंध है बिखराता।


प्रेम पवित्र से ही जीवन
मधुमय बन जाता है,
सत्य,अहिंसा और धर्म से
जीवन श्रृंगारित हो जाता है।
  
जीवन का अनवरत क्रम
  
हार-जीत और खोना-पाना,
परहित उत्सर्ग है मानवता
सुख-दुख में सबका साथ निभाना।


जीवन के महासमर में
संघर्ष हि पार लगाता है,
परिश्रम और धैर्य से
मानव विजयी बन जाता है।।

   

याद



जब-जब मैँ उदास होता हूँ,
तब-तब याद आते हैँ,
वो हसीन पल
जो तुम्हारे साथ बीते थे।
आँखोँ मेँ तैर जाती है
तुम्हारी हवा सी चंचल छवि।

तब बरबस होठोँ पर
थिरक उठती है स्निग्ध मुस्कान
उठ जाते हैँ दुख के बादल।

तुम पास नहीँ हो
पर तुम्हारी याद
सीने से लगी रहती है
जो हर दुख मेँ देती है
एक मधुर सांत्वना।।

अविराम साहित्यिकी(दिस.-2011) हरिद्वार, उत्तराखण्ड से प्रकाशित।