लघुकथा

मेरी लघुकथाएँ मेरे मन की आवाज हैँ।

5 टिप्‍पणियां:

RITU ने कहा…

please do not share anything without approving my consent. share the link where u have shared my poem from 'kalamdaan'.
thanks

Mahavir Uttranchali ने कहा…

Bahut achchhi laghukathayen hain. Padh kar dil gad-gad ho gayaa.

aapka anuj
Mahavir Uttranchali

Sambhu Dayal ने कहा…

लघुकथाएँ अच्छी हैँ।
शंभु बगीचा.

उमेश महादोषी ने कहा…

अच्छा लिख रहे हो। प्रेरक रचनाओं के साथ समय सापेक्ष बदलावों को भी लघुकथा में लक्षित करने का प्रयास करना और भी अच्छा रहेगा।

उमेश महादोषी ने कहा…

अच्छा लिख रहे हो। प्रेरक रचनाओं के साथ समय सापेक्ष बदलावों को भी लघुकथा में लक्षित करने का प्रयास करना और भी अच्छा रहेगा।